जड़ेया में पहला निर्माणकार्य

यह भूखंड पहले जंगली झाड़ियों से आच्छादित था। हमने बाउंड्री वाल के साथ पहली संरचना खड़ा करने के लिए इसे साफ करना शुरू किया। इस प्रकार चंद बच्चों के साथ दो कमरों का पहला स्कूल और जड़ेया का पहला लघु चिकित्सा केंद्र खुला।

फादर जानमारियो के साथ उद्घाटन

स्कूल शुरू करने के लिए पहली संरचना का निर्माण और बगल में कर्मचारियों के लिए दूसरी संरचना बनाई गई।

इसका उद्घाटन फादर जानमारियो रेदायेल्ली ने संत अन्ना की धर्मबहनों के साथ किया जिन्होंने स्कूल की गतिविधियों को आगे तक बढ़ाया।

सार्वजनिक उद्घाटन

एकमात्र कक्षा में दाखिला लेने वाले पहले-पहले छात्र थे और एक बड़ा उत्सव का माहौल था, भले ही बारिश का डर क्‍यों न था।
कुम्हार टोली में, स्कूल ड्रेस के साथ पहले से ही कक्षाएँ चल रही थीं।

जड़ेया के पहले विद्यार्थी

जड़ेया में प्रिंसिपल सिस्टर के द्वारा विद्यार्थियों की वर्दी की औपचारिक प्रस्तुति के साथ स्कूल के प्रथम छात्र।

धर्मसंघ के 400 वर्ष

भारत में क्रिश्चियन डॉक्ट्रिन फादर्स के लिए पर्व का अवसर

कुम्हार टोली के छात्र

जड़ेया में गतिविधियों को शुरू करने के पहले, कुम्हार टोली में बहुउददेशीय गतिविधियों के साथ एक रिकवरी स्कूल पहले से ही काम कर रहा था।

close

Iscriviti alla newsletter

Non inviamo spam! Leggi la nostra [link]Informativa sulla privacy per avere maggiori informazioni.